Sunday, 26 October 2014



Singer : Madan Rai

Music : Bharat SHarma


भँवरवा के तोहरा संग जाइ , भँवरवा के तोहरा संग जाइ। 

के तोहरा संग जाइ 

भँवरवा के तोहरा संग जाइ , भँवरवा के तोहरा संग जाइ। 

आवे के बेरिया सुब कोई जाने ,पर बाजल बधाई। 

जाए के बेरिया कोई ना जाने ,हंसा अकेले उड़ जाइ। 

भँवरवा के तोहरा संग जाइ ,भँवरवा के तोहरा संग जाइ। 

के तोहरा संग जाइ। 

भँवरवा के तोहरा सांग जाइ ,भँवरवा के तोहरा संग जाइ। 

डेहरी पकड़ के मेहरी रोए ,बाँह पकड़ के भाई। 

बीचे अंगना माता जी रोवे ,बबुआ के  बिदाई। 

भँवरवा के तोहरा संग जाइ ,भँवरवा के तोहरा संग जाइ। 

के तोहरा संग जाइ। 

भँवरवा के तोहरा संग जाइ , भँवरवा के तोहरा। 

 कहत कबीर सुनो भाई साधू ,सतगुरु सरन में जाइ। 

जो यह पढ़ के अर्थ बतइहें ,जगत पार होइ जाइ। 

भँवरवा के तोहरा संग जाइ ,भँवरवा के तोहरा संग जाइ। 

के तोहरा संग जाइ। 

भँवरवा के तोहरा संग जाइ ,भँवरवा के तोहरा संग जाइ। 




0 comments:

Post a Comment